RK The Shayri World : जो हमने तुम्हारे लिए आज ये गुलाब भेजा है, 2021 New Shayari © डिंपल धीमान

RK The Shayri World 

RK The Shayri World “ Happy Rose Day 2022"






🌹
जो हमने तुम्हारे लिए आज ये गुलाब भेजा है,
इस गुलाब के साथ हमने अपना ख्वाब भेजा है,
तुम भी इकरार करो मोहब्बत को दो तरफा बना दो,
हमने अपनी ओर से ये हाँ का एक जवाब भेजा है।

Jo hmne tumhare liye aaj ye gulab bheja hai,
Is gulab ke sath hmne apna khwab bheja hai,
Tum bhi ikrar kro, mohabbat ko do tarfa bna do,
Humne apni aur se ye haan ka ek jwab bheja hai.

we have sent this rose for you today, 
We sent our dream with this rose, 
Please agree to make our love double-sided, 
We have sent a yes answer on our behalf.


🌹

के तुम बिन तो मैं हर घड़ी इक खाली से मकान हूँ,
तुम बिन जो ना बोल सके एक ऐसी मैं जुबान हूँ,
बाकी तो तुम्हारे लिए किसी गुलाब को ही तोड़ दे,
ये गुलाब क्या ही चीज़ है मैं खुद तुमपे कुर्बान हूँ।

Ke tum bin to main har ghadi ik khali sa Makan huun,
Tum bin jo na bol sake ek Esi main zuban huun,
Baaki to tumhare liye kisi gulab ko hi tod dein,
Ye gulab kya hi chiz hai main khud tumpe kurban huun..

Every moment i am a blank house without you
I cannot speak without you
 The rest will break a rose for you
, What is this rose, I sacrifice myself for you...

🌹

के बस गुलाब की वजह से प्यार हो ये कहाँ की बात है,
गुलाब से ज्यादा प्यारे तो ये मोहब्बत वाले जज़्बात है,
मोहब्बत में तो मेहबूब सबके ही बड़े बेशुमार हुआ करते है,
फिर इस प्यार के सामने छोटे से गुलाब की क्या औकात है।

Ke bas gulab ki wajah se pyar ho ye kahan ki baat hai,
Gulab se jyada pyare to ye mohabbat ke jazbaat hai,
Mohabbat mein to mehbub sabke hi bde beshumar hua krte hai,
Fir is pyar ke saamne chhote se gulab ki kya aukat hai...

What is this talk that love is only via roses,
The emotion of love are beautiful than roses,
In love every lover is very special for lover,
Then in front of love what is status of roses..


🌹

हम उनके लिए कोई गुलाब नहीं तोड़ सकते,
किसी का हम कोई ख्वाब नहीं तोड़ सकते,
होगा कोई ख्वाब उस गुलाब का भी यारों,
बस लहजा हम ये अपना लाजवाब नही तोड़ सकते।

Hum unke liye koi gulab nhi tod sakte,
Kisi ka hum koi khwab nhi tod sakte,
Hoga koi khwab us gulab ka bhi yaaro,
Bs lehja hum ye apna lajawab nhi tod sakte..

We can't pluck any roses for them, 
We cannot break anyone's dream, 
there be dreams of that rose too, 
We just can't break our wonderful theme.

🌹

उनका मेरा मिलना ये एक छोटा सा बस ख्वाब है,
छोटा ही सही है पर ये हमारा, ख्वाब लाज़वाब है,
क्या तोडूं कोई गुलाब मैं मेरे उस सनम के खातिर,
वो खुद ही मेरी ज़िंदगी का हसीन का गुलाब है।


Unka mera milna ye ek chhota sa bas khwab hai,
Chhota hi sahi hai par ye hmara, khwab lajwab hai,
Kyu todu koi gulab main mere us sanam ke khatir,
Vo khud hi meri zindgi ka haseen sa gulab hai..


Her meeting with me is just a small dream for me,
 Small is ok but this is a wonderful dream for me, 
Why I break a rose for the sake of my beloved?
She herself is the beautiful rose of my life for me..

🌹








1 टिप्पणियाँ

Ram Ram Ji

  1. Sir ji kuch Shayri iss par ho jaye ke....
    Ham ladke har baar dil nhi todte jo tum dil tutne se ghbra raHi ho. Iss mosm pr kuch arz ho jaye Shayan RK ji

    जवाब देंहटाएं
और नया पुराने